Register

If this is your first visit, please click the Sign Up now button to begin the process of creating your account so you can begin posting on our forums! The Sign Up process will only take up about a minute of two of your time.

Page 6 of 6 FirstFirst ... 456
Results 51 to 60 of 60
  1. #51
    Thakur Shahab's Avatar
    Thakur Shahab is offline Senior Member
    Join Date
    Aug 2012
    Location
    तन्हाईयों मे
    Posts
    2,792
    तुमको चाहने की वजह कुछ भी नहीं ।।


    इश्क की फितरत है बेवजह होना ।।

    📝📝📝📝📝❤️❤️

  2. #52
    Thakur Shahab's Avatar
    Thakur Shahab is offline Senior Member
    Join Date
    Aug 2012
    Location
    तन्हाईयों मे
    Posts
    2,792
    सफ़र लिख दे, रास्ता ही लिख दे ,,

    किसी मंज़िल से, मेरा वास्ता ही लिख दे ,,

    ऐसा क्यूँ है, के बेमक़सद जिए जा रहा हूँ मैं ,,

    मेरी क़िस्मत में, कोई हादसा ही लिख दे !!

    📝📝📝📝📝📝📝

  3. #53
    Thakur Shahab's Avatar
    Thakur Shahab is offline Senior Member
    Join Date
    Aug 2012
    Location
    तन्हाईयों मे
    Posts
    2,792
    बहुत दिनों से मैं सुन रहा था, सजा वो देते है हर खता पर ,,,,मुझे तो इसकी सजा मिली है, कि मेरी कोई खता नहीं है।।


    ये इनके मंदिर, ये इनकी मस्जिद, ये जरपरस्तों की सज्दागाहें ,,,,,अगर ये इनके खुदा का घर है, तो इनमें मेरा खुदा नहीं है ।।
    🙏🏼🙏🏼📝📝📝📝📝

  4. #54
    Thakur Shahab's Avatar
    Thakur Shahab is offline Senior Member
    Join Date
    Aug 2012
    Location
    तन्हाईयों मे
    Posts
    2,792
    आखिर कोई तो ऐसी सज़ा दे .... हम सजदे में हो ओर कोई मरने की दुआ दे ।। "प्रिंस" 📝📝📝📝📝📝

  5. #55
    Thakur Shahab's Avatar
    Thakur Shahab is offline Senior Member
    Join Date
    Aug 2012
    Location
    तन्हाईयों मे
    Posts
    2,792
    दिल्लगी या दिल की लगी कुछ तो लाजवाब है उसमे ।।

    वफ़ा है या फिर ज़फ़ा , आखिर कुछ तो बे-हिसाब है उसमें ।।

    "प्रिंस" 📝📝📝📝📝📝📝

  6. #56
    Thakur Shahab's Avatar
    Thakur Shahab is offline Senior Member
    Join Date
    Aug 2012
    Location
    तन्हाईयों मे
    Posts
    2,792
    कोरे कागज़ पर तेरे मन से मैंने कुछ चित्र बना रखे हैं ।।

    कुछ उठते सैलाब हैं , बस पलकों में ही दबा रखे हैं ।।

    कोई सिसक के रो न पड़े,तो सभी अंजाम मोहब्बत के दिल में छुपा रखे हैं ।।

    यूँ न छेड़ो फिर कहीं हरे हो न जाएं , कुछ ज़ख्म दिल के अब भी मैंने रवां रखे हैं ।।

    उठ नं जाएं भरोसा ज़माने का , सबको तुम्हे अपना ख़ुदा बताये रखे हैं ।।

    पीते-पीते एक दिन धड़कन रुक जाएं , क्या-क्या मैने अपने लिए सजा सजाये रखे हैं ।।

    📝📝📝📝📝📝📝

  7. #57
    Thakur Shahab's Avatar
    Thakur Shahab is offline Senior Member
    Join Date
    Aug 2012
    Location
    तन्हाईयों मे
    Posts
    2,792
    होने लगा हैं अब हिसाब नफे ओर नुकसान का ,,,, मासूम सी मोहब्बत अब व्यापार हो गयी ।। 📝📝📝📝📝❤❤

  8. #58
    Thakur Shahab's Avatar
    Thakur Shahab is offline Senior Member
    Join Date
    Aug 2012
    Location
    तन्हाईयों मे
    Posts
    2,792
    मुनासिब समझो तो सिर्फ इतना ही बता दो ।।


    दिल बैचैन हैं बहुत आज ,कहीं तुम उदास तो नहीं ।।

    ❤📝📝📝📝📝📝❤

  9. #59
    mehul_lakhani's Avatar
    mehul_lakhani is offline Junior Member
    Join Date
    Aug 2007
    Posts
    8
    Paane to bahut padhe hamane,
    Baas wahi na padh paye jo dundh rahe the

  10. #60
    mehul_lakhani's Avatar
    mehul_lakhani is offline Junior Member
    Join Date
    Aug 2007
    Posts
    8
    Udhaas to bahut hun, kyunki kuch duri he,
    tabhi to dard idhar he aur ehsaas udhar he


Page 6 of 6 FirstFirst ... 456

Tags for this Thread

Posting Permissions

  • You may not post new threads
  • You may not post replies
  • You may not post attachments
  • You may not edit your posts
  •  
All times are GMT +5.5. The time now is 05:57 AM.
Copyright © 2017 vBulletin Solutions, Inc. All rights reserved.
Copyright 2013 Shayari.in