Bhook se haalat behaal, gareebi ne sar uthhaa rakhha hai
Aur khaali pet ki chubhan kya hoti hai mujhse poochho
Is aadat ko kaafi apnaa rakha hai ,

Dil hi dekhna hai to apni Maa ka jakar dekhlo
Apni roti tumhe dekar kehti hai, Maine khaa rakhha hai

Kisi aur ki nahi, tumhaari Maa ki mehnat hai
Ye jo Izzat o Rutba tumne paa rakha hai

Kehte ho khud hi paar kar gaye har mushkil raasta
Nadaan, Maa ki duaao ne god me uthha rakha hai

Aur rokte ho mjhe meri hi kaamyabi se,Buzdilon
Maine apni Maa ka har kehna maan rakha hai

Aur aaaye hain ‘Kabir’ aaj wo jung me, mere qatl ka iraada rakhkar,
Bewakoof, meri Maa ne aaj mere sar par haath faira rakha hai…

Bhook se haalat behaal, gareebi ne sar uthhaa rakhha hai
Aur khaali pet ki chubhan kya hoti hai mujhse poochho
Is aadat ko kaafi apna rakha hai…………….
Kabir.shayer@gmail.com


भूक से हालत बेहाल , गरीबी ने सर उठा रखा है
और खाली पेट की चुभन क्या होती है मुझसे पूछो
इस आदत को काफी अपना रखा है ,

दिल ही देखना है तो अपनी माँ का जाकर देखलो
अपनी रोटी तुम्हे देकर कहती है , मैंने खा रखा है ,

किसी और की नहीं , तुम्हारी माँ की मेहनत है
ये जो इज़्ज़त -ओ- रुतबा तुमने पा रखा है

कहते हो खुद ही पार कर गए हर मुश्किल रास्ता
नादान, माँ की दुआओ ने गोद में उठा रखा है,

और रोकते हो मुझे मेरी ही कामयाबी से ,बुज़दिलों
मैंने अपनी माँ का हर कहना मान रखा है ,

और आये हैं ‘कबीर ’ आज वो जंग में , मेरे क़त्ल का इरादा रखकर ,
बेवक़ूफ़ , मेरी माँ ने आज मेरे सर पर हाथ फैरा रखा है …

भूक से हालत बेहाल , गरीबी ने सर उठा रखा है
और खाली पेट की चुभन क्या होती है मुझसे पूछो
इस आदत को काफी अपना रखा है , …………….
Kabir.shayer@gmail.com