तेरी जुदाई से इस तन्हाई से
सारे ज़माने की हाय रुसवाई से
डरता है दिल ...

तुम रूठ जाना ना मुझको रुलाना ना
आँखों से मेरी तुम दूर जाना ना
डरता है दिल ...

तुम जो मिले मुझको सनम
पाके तुम्हे खोना नहीं
अब गम मिले खुशियाँ मिले
हमको जुदा होना नहीं
इस दिल्लगीसे दिलकी लगी से
चाहत में तेरी है जो
मेरी ज़िन्दगी से
डरता है दिल ....

ये दिल कहीं लगता नहीं
तेरे बिना ओ साथिया
इस प्यार में दिलबर मेरे
तेरे सिवा जाना कहाँ
सपने सजाने से हसने हँसाने से
जो प्यार में गूम है वो
दिल टूट जाने
डरता है दिल ....