जमाने से कब के गुजर गए होते ।
ठोकर न लगी होती हम बच गए होते ।
बंधे थे तेरी दोस्ती के धागे में ।
वर्ना कब के हम बिखर गए होते ।