जान भी जाने लगी है जाने से तेरी,
पर तूने ना जाना कभी के तूही जान है मेरी ।

----------सुधीर कुमार सा