होंठो के दरमियाँ रह गयी कुछ अनकही बातें......
वो समझते रहे मुझे उनसे कोई शिकवा ना था..!!!