ख़ामोश फिजाओं में इन सर्द हवाओं में
मौसम की अदाओं में
इन दिल की सदाओं में
पल-पल की दुआओं में
मैंने पाया
वो बस तुम थे।
ख़ामोश नजारों में
चांद सितारों में
शोख इशारों में
बारिश की फुहारों में
अशकों की कतारों में
मैंने देखा ...

वो तुम थे -